Sunday, August 3, 2014

एक बदसूरत लड़की का ख़त

(ये पोस्ट मेरी एक कहानी "वो बदसूरत लड़की" का एक हिस्सा है..जिसमें उस लड़की के रुहानी हालातों को बयाँ करने की कोशिश की है जो जमाने के तथाकथित सौंदर्य के पैमानों पर खरी नहीं उतरती...और समाज में सौंदर्य के लिये लालायित लोगों को देख, जो टीस उसके मन में पैदा होती है उसे अपने लफ्ज़ों में लपेट अपनी माँ को भेजने की कोशिश करती है। हालांकि एक पुरुष होते हुए किसी नारी के मन को समझ पाना आसान नहीं है लेकिन फिर भी मैंने एक नादान कोशिश ज़रूर की है-)

माँ..अब बस तुम्हारा नाम जुवां पर लाकर और आँखें बंद कर तुम्हारी तस्वीर देखकर ही मुझे सुकून मिलता है। वरना इस दुनिया के रवैये ने तो वो सारी खुशियां मुझसे छीन ली हैं जो खुशियां एक जवां लड़की को उसकी हसरतों के पूरा होने से मिलती हैं क्योंकि मेरी सूरत किसी भी तरह की उन ख्वाहिशों को पालने की इज़ाजत नहीं देती..जो ख्वाहिशें एक जवां लड़की की होनी चाहिये...और अब तो मैं जवां भी नहीं रही, उनतीस साल की लड़की भला कहाँ जवां मानी जाती है। एक नारी के सौंदर्य की एक्सपायरी डेट तो तय कर रखी है न इस दुनिया ने।

माँ..वैसे आपसे मैं ये सब क्यूं बोलू..अब तो आप भी ये समझ चुकी हो कि मैं एक बदसूरत लड़की हूँ...यदि सुंदर होती तो अब तक घर में थोड़ी बैठी रहती। अब ये बात आप और पापा मुझसे कहें या नहीं पर सच तो यही है न..जो दुनिया ने आपको बताया है। हाँ मैं मानती हूँ कि पापा के लिये मैं आज भी किसी परी से कम नहीं और इसलिये मेरी शादी के लिये क्या कुछ नहीं किया उन्होंने...पर अब मेरी वजह से उनके माथे पर पड़ने वाली सलवटें नहीं देखी जाती। वो ये मान क्युं नहीं लेते कि मेरे लिये कोई राजकुमार नहीं आयेगा...उनकी बेटी ऐसे किसी अरमान को पूरा नहीं कर सकती जो एक लड़की का पिता देखा करता है। मुझे पता है माँ जब दो महीने पहले हमारे पड़ोस वाली वो सुनीता चाची की बेटी, जो मुझसे उम्र में लगभग छह साल छोटी है उसका ब्याह हुआ तो आपको कैसा लगा होगा..और वो नटखट सी पिंकी, जिसे हम बचपन में अपने घर में खिलाया करते थे वो भी तो दुबई जाकर सैटल हो गई है न...एक एक कर मेरी सब सहेलियां और वो लड़कियां भी जो मुझे दीदी-दीदी कहकर बुलाती थी सभी तो शादी करके चली गई। हर शादी को देख पापा अपनी बेटी के लिये भी किसी ऐसे ही राजकुमार के सपने संजोते थे पर माँ यहाँ तो सिर्फ चमड़ी की कीमत है...और मुझे वो नहीं मिली है।

बचपन में जब टीवी पर वो फेयर एंड लवली और विको टरमरिक क्रीम का एड देखती थी तो दिल में हर बार उम्मीद का संचार होता था पर वो सब झूठे हैं मां..मैंने सब कुछ किया पर मेरा ये काला रंंग जाता ही नहीं है। लड़कियों का रंग गोरा होना इतना ज़रूरी क्युं है मां? एक बात और बताना है आपको..वो जब कॉलेज में मेरी सहेलियां श्रद्धा और सपना अपने-अपने ब्वायफ्रेंड के साथ घूमती थी न तो मेरा भी मन होता था कि मुझे भी कोई ऐसे चाहे, फोन करे, मेरी फिक्र करे, मुझे घुमाये और आपसे छुप-छुप के मैं भी किसी से प्यार करूं...पर ऐसा कभी न हुआ मेरे साथ। मेरे साथ पढ़ने वाले लड़कों ने सहानुभूति तो दिखाई मुझपे, पर साथ कोई नहीं रहा। और माँ पता है न आपको वो श्रद्धा और सपना कभी पढ़ने में भी अच्छी नहींं थी और वो अपने ब्वायफ्रेंड से झूठ बोल-बोलकर धोखा भी देती थी..लेकिन फिर भी लड़के उनको ही पसंद करते थे। मैं पढ़ने में तेज थी और झूठ बोलना, किसी का दिल दुखाना तो आपने सिखाया ही नहीं है मुझे, फिर भी कभी किसी ने पसंद नहीं किया। हाँ सब लड़के एक्साम के टाइम पे मेरी हेल्प लेने ज़रूर आते थे..और थैंक्स भी बोलते थे पर मुझे किसी ने प्यार के काबिल नहीं समझा। लड़की की सूरत के अलावा क्या कोई और चीज़ मायने नहीं रखती?

और ये भी तो आपको पता ही है न कि कॉलेज टॉप करने के बाद भी मुझे नौकरी ढूंढने में कितनी परेशानी झेलना पड़ी। और वो हरमीत अंकल की जस्सी जिसका हरबार किसी न किसी सब्जेक्ट में बैक लगता था आज वो पता नहीं कैसे मुम्बई की एक कंपनी की सीईओ बन गई। जबकि मेरे काम से मेरी सूरत का कोई लेना देना नहीं था..मैंने न कोई फिल्म हीरोईन बनने का सोचा, न किसी टीवी का एंकर..जहाँ खूबसूरती मायने रखती है पर फिर भी ऐसा क्यूं? और आज भी कई लड़कियां जो इस कंपनी में इंटर्न करने आती है वो भी पता नहीं कैसे कुछ दिनों में ही मुझसे सीनियर बन जाती हैं और मैं छह साल से इस कंपनी का हिस्सा होते हुए भी उसी जगह पे किसी तरह टिकी हुई हूँ। लड़कियों की सूरत उन क्षेत्रों में भी इतनी ज़रूरी हो गई है जहाँ सूरत का कोई लेना देना ही नहीं है।

माँ आपको पता है जब हम लोग आज से आठ साल पहले वो शाहिद कपूर की 'विवाह' फ़िल्म देखने गये थे..तब मैं सोचती थी कि कोई ऐसा मेरी ज़िंदगी में भी आयेगा जो मुझे मेरे जज़्बातों के लिये चाहेगा न कि सूरत के लिये। पर ऐसा कुछ सच्चाई में नहीं होता। मेरे जीवन का सबसे सुनहरा दौर बस यूं ही गुज़र गया। मुझे समझ नहीं आता मेरे सुंदर न होने में मेरा क्या दोष...इंसान पैदा होने के बाद अपनी मेहनत से जिस काबिलियत और सद्गुणों से खुद को विकसित कर सकता है वो सब तो मैंने किया न..पर सूरत पे तो मेरा वश नहीं चल सकता। और जब भगवान को मुझे ऐसा बदसूरत बनाना ही था तो मेरे जज़्बातों को भी धुंधला कर देते...उन सारी तमन्नाओं को भी बेरंग कर देते..जो एक लड़की में होती हैै। लेकिन नहीं उन्होंने सिर्फ लड़कियों वाली तथाकथित खूबसूरती मुझे नहीं दी पर हर अहसास तो मुझमें भी वही हैं।

अब मैं थक चुकी हूँ माँ...अब मैं और आप लोगों को परेशान नहीं कर सकती...बस इसलिये मैंने फैंसला कर लिया है...ये सब ख़त्म करने का। अरे न..न..आप गलत सोच रही हैं इतना घबराने की ज़रूरत नहीं है आप लोगों के संस्कार मुझे कभी कोई गलत कदम नहीं उठाने देंगे..और खुद को ख़त्म करने का तो मैं सोच भी नहीं सकती। अब क़त्ल होगा उन जज़्बातों का जो एक लड़की को सौंदर्य की चाहत के अलावा और कुछ  देखने नहीं  देते...अब क़त्ल होगा उस चाहत का जिसके चलते लड़की अपना वजूद किसी मर्द के संग होने में तलाशती है। मेरा अस्तित्व खुद से है और अब इस चमड़ी में अपना अस्तित्व तलाशने के बजाय विचारों के उस अनंत आकाश में खुद की हस्ती खोजूंगी...जो इंसान की लौकिक ही नहीं पारलौकिक खूबसूरती को बेहतर बनाती है। माँ! मुझे अब कोई ग़म नहीं अपने ऐसे होने पे..और न किसी से कोई शिकायत है बल्कि मुझे फ़क्र है आप लोगों के दिये उन संस्कारों पे जो औरत को बाहरी नहीं बल्कि आंतरिक सुंदरता प्रदान करते हैं। और चर्म के मिथ्या उपासक इस समाज से भी मुझे कोई शिकायत नहीं क्योंकि गर मैं इनकी सुंदरता के मायनों पे खरी उतरती तो कभी अपनी वास्तविक सुंदरता को न समझ पाती।

अच्छा है मेरी चमड़ी, गीदड़ों की हवस का शिकार नहीं होगी..और दया, सत्य और वात्सल्य की सौरभ से खुद भी महकूंगी और दुनिया में हालातों की मार झेल रहे हज़ारों को महकाउंगी..और हाँ ये सब बात मैं किसी कुंठा मैं बयाँ नहीं कर रही बल्कि लंबी सोच के बाद हासिल हुए निष्कर्ष का परिणाम हैं मेरे ये विचार। लेकिन अब तक आप लोगों की हसरतों के लिये खुद को खामोश रखा था। मेरी खूबसूरती का पैमाना मैं खुद तय करुंगी, ये दुनिया नहीं। मेरे सौंदर्य पे मांस का लोथड़ा देखने वाला ये जमाना मोहर नहीं लगायेगा...ये पैमाना तो इतिहास तय करेगा कि कौनसी खूबसूरती चिरजीवंत है।

हाँ, माँ! जैसा पापा को लगता है वही सत्य है कि मैं परी हूँ। मेरा बदन ही मेरा वतन नहीं है..और न कोई चित्रकार ही मेरी तस्वीर बना सकता क्योंकि चित्रकारों ने भी जिस्म के परे कब देखा है औरत को। औरत का सच्चा सौंदर्य जिस दिन देख लिया न इन चित्रकारों ने उस रोज़ पूरी चित्रकला ही परिवर्तित हो जायेगी....और मैं तो वैसे भी विश्वसुंदरी हूँ। मेरी खूबसूरती को कैनवास पे उकेर सके, न ऐसी नज़र है कोई और न  ऐसा कोई रंग.............................

2 comments:

  1. बहुत ही प्रेरणादायी कहानी। बधाई एवं श्‍ाुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete

इस ब्लॉग पे पड़ी हुई किसी सामग्री ने आपके जज़्बातों या विचारों के सुकून में कुछ ख़लल डाली हो या उन्हें अनावश्यक मचलने पर मजबूर किया हो तो मुझे उससे वाकिफ़ ज़रूर करायें...मुझसे सहमत या असहमत होने का आपको पूरा हक़ है.....आपकी प्रतिक्रियाएं मेरे लिए ऑक्सीजन की तरह हैं-